फिटनेस लाइफ स्टाइल है।

 


ज के जमाने में हर एक  इंसान अपने आप को फिट और तंदुरुस्त  देखना चाहता है भारत में फिटनेस को लेकर और स्वास्थ्य को लेकर पिछले कई वर्षों से बहुत जागरूकता आई है हर व्यक्ति फिटनेस के लिए सजग हो रहा है ।

 ऐसे में बहुत ज्यादा जरूरी है कि हमें जानकारी हो कि हम किस तरह से फिट रह सकते हैं आज के पोस्ट में मैं आप को फिटनेस के साथ साथ बॉडीबिल्डिंग करने के भी कई तरीके बताऊंगा  मैं यह तो बिल्कुल नहीं कहूंगा कि यह तरीके पूर्ण से वैज्ञानिक प्रयोग पर आधारित है लेकिन यह मेरा खुद का अनुभव है जो आप लोगों के सामने साझा कर रहा हूं ।

 समय ऐसा आ गया है की पिक्चरें और मूवीज देख कर आज समय  ऐसा आ गया है कि आजकल हर युवा मूवीज के एक्ट्ररस की तरह बॉडीबिल्डिंग करना चाहता है ज्यादातर व्यक्ति मूवीस के ऊपर एक्टर्स को सच्चाई मानते है तथा उनकी तरह ही जिंदगी जीना चाहते है। बे हुबहू उन्हीं की तरह सारी काम करने लगते हैं। सबसे पहले तो आपको यह समझना होगा कि रियल लाइफ रिल लाइफ में जमीन आसमान का अंतर होता है।    

 तो सबसे पहले तो अगर आप कोई भी काम करना चाह रहे हो तो उसके पीछे आपके पास कोई बहुत ही जरूरी वजह होनी चाहिए, 

यहां पर वजह का हो ना इसलिए भी जरूरी है क्योंकि आपके पास जितनी जरूरी वजह होगी आपके उस काम में सफल होने की संभावनाएं उतनी ज्यादा बढ़ जाएंगी और दूसरी बात आप अपनी जिंदगी में सही लक्ष्य की ओर भी बढ़ पाएंगे क्योंकि अधिकतर इंसान दूसरे लोगों की नकल करने में ही अपनी पूरी जिंदगी गुजार देते हैं वह यह कभी नहीं जान पाते हैं कि उनकी जिंदगी का असली मकसद क्या है।


जब तक आप दूसरों की नकल करते रहेंगे तब तक आप अपनी जिंदगी में कभी सफल नहीं हो पाएंगे क्योंकि उदाहरण के लिए अगर मान लीजिए मछली बंदर को देखकर पेड़ पर चढ़ने की कोशिश करने लगे तो वह चाहे कितनी भी कोशिश कर ले लेकिन वह ऐसा कभी नहीं कर सकती वह अपना दिन रात एक कर दे चाहे वह कितनी भी मेहनत क्यों ना कर ले ।


 क्योंकि मनुष्य भी एक जानवर ही है तो आप ऐसा नहीं कर सकते कि यह चीज केवल मछलियों पर ही लागू होती है हर इंसान का एक अलग क्षेत्र होता है जिसमें वह सफल हो सकता है या अपनी सफलता का  अधिकतम प्रयास कर सकता है।

     खैर इन सब बातों को छोड़ते हैं और मुद्दे पर आते हैं सबसे पहले तो आपको यह डिसाइड करना होगा कि आपका लक्ष्य क्या है फिटनेस या बॉडीबिल्डिंग फिटनेस और बॉडी बिल्डिंग में बहुत अंतर होता है फिटनेस एक लाइफ स्टाइल होता है बॉडीबिल्डिंग एक गेम होता है बॉडी बिल्डिंग में आपको यह भी जरूरी नहीं है कि आप फिट रहें यह भी जरूरी नहीं कि आप बीमार हो लेकिन जैसा कि आप जानते हैं या आपने सुना होगा कि बॉडीबिल्डिंग स्टेरॉइड्स का गेम है। हां बहुत से बॉडीबिल्डर नेचुरल भी होते हैं लेकिन stage competition करने के लिए steroids ki जरूरत पड़ती ही है और स्टेरॉइड्स मानव शरीर के लिए जहर होते हैं तो सीधी सी बात है की जरूरी नहीं है कि एक बॉडीबिल्डर फिट भी रहे।

 बाकी मैं आपको फिटनेस के बारे मैं ही जानकारी दे सकता हूं क्योंकि मैं एक कोई भी स्टेज  बॉडीबिल्डर तो नहीं हूं ।

वैसे हर व्यक्ति चाहता है कि वह देखने में ठीक ठाक लगे थोड़े बहुत उसके बाइसेप्स हो चेस्ट भी अच्छा खासा हो, लेग्स भी सही से ग्रो हुए हो, ओवरऑल व्यक्ति की पर्सनालिटी देखने में ठीक लगे।

 यह समस्या ज्यादातर उन्हीं बंदों को होती हैं जो या तो बहुत स्किनी होते हैं या बहुत ज्यादा मोटे होते हैं और आपको  अपने यहां ज्यादातर ऐसे ही लोगों की संख्या ज्यादा होती है ।तो यह सब फिटनेस के माध्यम से संभव है।

 तो आपको बॉडीबिल्डिंग की जगह फिटनेस को ध्यान में रखकर अपने शरीर पर काम करना चाहिए।

 तो आइए शुरू करते हैं ,

सबसे पहले तो आपको अपना पूरा ध्यान शरीर पर से हटाना होगा  हाँ सही सुना आपने आपको शरीर पर इतना ध्यान देने की कोई जरूरत नहीं है आपके दिन का एक घंटा काफी है। आपको केवल अपने दिन का एक घंटा एक्सरसाइज के लिए निकालना है और बाकी अपना खान-पान ठीक रखना है तो सब कुछ रूटीन से चलता रहेगा।


 क्योंकि अगर आप अपना पूरा ध्यान अपने शरीर पर ही देते रहेंगे तो आप बाकी कामों में कंसंट्रेट नहीं कर पाएंगे और आप इन सब बातों से परेशान होकर शुरू शुरू में जो जोश में तो कुछ दिनों तक तो फिटनेस को टाइम दे पाएंगे लेकिन कुछ दिनों पश्चात आपकी फिटनेस एकदम एक साइड हो जाएगी और आप दुबारा अपने पुराने उसी रूटीन पर आ जाएंगे तो यह जरूरी है कि आपको चीजों को कंटिन्यू रखना इसलिए आपके दिन का केवल एक घंटा आपके फिट रहने के लिए काफी है।

  दूसरी बात अगर आप स्किनी बंदे है तो जरूरी नहीं है कि आप डेली एक ही तरह की एक्सरसाइज करें आपको सप्ताह में 1 दिन रेस्ट करना चाहिए और सप्ताह के अलग-अलग दिन शरीर के अलग-अलग हिस्सों पर काम करना चाहिए। यह  एक बहुत ही बड़ी समस्या होती है जो बहुत से लोगों को काफी समय तक पता नहीं चलती है और वह लगातार काफी समय तक एक्सरसाइज करने के बाद भी अपने शरीर में कोई खास सुधार नहीं देखते हैं उल्टा उन्हें लगता है कि भी जब से एक्सरसाइ करना शुरू करें और ज्यादा थक गए हैं यह सब इन्हीं कारणों से होता है कि हम सप्ताह के सातों दिन और बहुत जोर शोर से शरीर के एक ही भाग को ट्रेंड करते हैं अगर  हेल्दी हो ना चाहते हैं, तो जल्दी   इस आदत को छोड़ दीजिए आपने ज्यादातर लोगों को देखा होगा यहां अपने से बहुत से लोग खुद ही यह काम अपने घर पर करते होंगे।

 तीसरी बात आती है नियमितता की। अगर आपको किसी भी काम को करना शुरू करते हैं तो आपको उसमें समय देना पड़ता है आपको लगातार कई महीनों तक daily exercise करनी होगी तभी आपको सब कुछ फायदा देखेगा  इस दौरान आपको बहुत सी समस्याओं का सामना भी करना पड़ सकता है लेकिन आपको केवल अपने लक्ष्य को ध्यान में रखकर हमेशा चलते ही रहना है समस्या केवल इतने समय ही नहीं आती है बल्कि आप अपने जीवन में कोई भी लक्ष्य बनाएंगे आपको समस्याओं का सामना तो करना ही पड़ेगा यह सोचकर आपको चलते रहना।

        दूसरे नजरिए में स्वास्थ्य की दृष्टि से आपको यह फायदा भी होता है कि आप जिस दिन से एक्सरसाइज करना प्रारंभ करते हैं उस दिन से आपके शरीर की बहुत सारी बीमारियां दूर हो जाती हैं और उसके एक्सरसाइज के दौरान आपको ज्यादातर कोई भी बीमारी नहीं होती है आप इन सब चीजों से बचे रहते हैं तो यह भी एक प्रकार का बहुत ही बड़ा लाभ है  जिस दौरान आप एक्सरसाइज कर रहे होंगे आप अपने आसपास के लोगों को देखेंगे तो आपको साफ-साफ दिखेगा कि आपका के एक्साइज करने की करने के कितने सारे फायदे हो रहे हैं।

  चौथा और सबसे जरूरी पॉइंट आता है आपका खान-पान अगर आपका खान-पान ठीक नहीं है तो आप चाहे कितना भी कुछ कर लेना ही अपना शरीर अच्छा बना सकते हैं ना ही आपका स्वास्थ्य कभी अच्छा हो सकता है आपको अपने खान-पान पर विशेष ध्यान देना होगा आपको बाहर का खाना बिल्कुल नहीं खाना चाहिए और आप को हरा भोजन करना चाहिए अपने खाने में हरी सब्जियां दल वालों को जरूर सम्मिलित करना चाहिए और आपको स्वास्थ्यवर्धक भोजन करना चाहिए आप घर का कैसा भी खाना खा सकते हैं लेकिन आपको बाहर के खाने से सदा बच के रहना चाहिए।

 आशा है अब आपको समझ में आ गया होगा कि आप को स्वस्थ रहने के लिए किन-किन टिप्स को फॉलो  करना है तो स्वस्थ रहिए मजे में रहिए मिलते हैं आपको अगले ब्लॉग में।

 धन्यवाद

 आपको आगे भी अगर ऐसी स्वास्थ्य से संबंधित टिप्स चाहिए तो आप नीचे कमेंट करके बता सकते हैं  और आपको हमारा ब्लॉग अच्छा लगा हो तो कृपया कमेंट करें शेयर करें और आगे भी ऐसे ही पढ़ते रहें।

2 comments:

Powered by Blogger.