जीनियस होने की 7 निशानियां।

 



इस संसार में बहुत ही कम लोग ऐसे होते हैं जो जीनियस होते हैं जीनियस इंसान बचपन से नहीं होता है बल्कि वह अपनी कठिन मेहनत से और अपने संकल्प से जीनीयस बन सकता है लेकिन जीनियस बनने के लिए आपको बहुत ज्यादा मेहनत करनी पड़ेगी और आज की पोस्ट में मैं आपको कुछ ऐसी ही निशानीयों के बारे में बताऊंगा कि जो एक रिसर्च के आधार पर पता चली है कि यह सारी निशानियां जीनियस लोगों में पाई जाती हैं इनके बेस पर आप यह जांच सकते हो कि यह निशानियां आप में है या नहीं या फिर इनमें से आप में कितनी निशानियां है आप लोग यह बात कमेंट करके बताएंगे कि इसमें से आप की कितनी आदतें मिलती हैं तो चलिए शुरू करते हैं,

 मैं यहां पर आपको जीनियस लोगों के साथ निशानियां बताने जा रहा हूं,

 1.जीनियस लोग जिंदगी में कभी भी हार नहीं मानते हैं अब यह पॉइंट आपको बहुत ज्यादा सामान्य लग सकता है आप सोच रहे होंगे कि इसमें क्या बड़ी बात है और आपने बहुत से लोगों को यह कहते हुए भी सुना होगा कि आपके पेरेंट्स भी आपको कहते होंगे लेकिन अगर आप थोड़ा सा ध्यान दे तो आपको एक बात देखेंगे कि यह कहते तो सब लोग हैं लेकिन फॉलो कोई नहीं करता यहां तक कि आपके पैरेंट्स भी नहीं करते होंगे लेकिन जीनियस लोगों की यह निशानी होती है कि वे कभी जिंदगी में हार नहीं मानते हैं एलोन मस्क के नाम से आप लोग भली-भांति परिचित होंगे,

 "शुरुआत में एलोन मस्क ने जब स्पेसएक्स नाम की रॉकेट कंपनी लॉन्च की थी तो शुरुआत में ही उनके तीन रॉकेट फेल हो गए थे इससे एलोन मस्क बहुत ज्यादा परेशान हुए थे लेकिन जब उनसे एक इंटरव्यू के दौरान पूछा गया है कि आपकी हालत तो बहुत ज्यादा खराब हो गई है क्या आप अब हार मान जाएंगे या अपने कंपनी बंद कर देंगे तो उन्होंने एक बहुत ही अच्छा जवाब दिया था उन्होंने कहा था कि मैं तब तक हार नहीं मान सकता हूं कि जब तक मैं या तो मर ना जाऊं या फिर भगवान मेरी हालत ऐसी कर दे कि मैं कुछ कर ना सको मतलब मैं अपाहिज हो जाऊं अन्यथा किसी भी स्थिति में मैं हार नहीं मानूंगा"

 "ऐसा ही कुछ जवाब एक जाने-मने एक्टर विल स्मिथ ने दिया था उन्होंने भी कहा था कि तुम मुझसे ज्यादा स्मार्ट हो सकते हो हैंडसम हो सकते हो इंटेलिजेंट हो सकते हो लेकिन मैं कभी हार नहीं मानूंगा अगर मेरे साथ मेरा कंमप्टीटर ट्रेडमिल पर रेस कर रहा है तो या तो वह हार मान जाएगा या फिर मैं तब तक दौड़ता रहूंगा जब तक कि मैं मर नहीं जाऊंगा।"

 तो आप उनके इस जवाब से ही समझ सकते हैं कि यह कितना ज्यादा इंपॉर्टेंट पॉइंट है जो जीनियस लोगों में पाया जाता है क्या आपकी भी यह आदत है कमेंट सेक्शन में जरूर बताइएगा।

2. किसी चीज के पीछे पागल होना यह जीनियस लोगों की जाने अनजाने में ही एक आदत होती है बे जब भी किसी एक चीज के पीछे पड़ जाते हैं तो बिना चाहते हुए भी कभी भी उस चीज को छोड़ नहीं पाते हैं उस चीज के लिए अपनी पूरी जिंदगी खफा सकते हैं लेकिन वह कोई भी चीज डिसाइड करने से पहले बहुत सोच समझकर निर्णय लेते हैं और जब वह एक बार कुछ डिसाइड कर लेते हैं तो उसके लिए जी जान लगा देते हैं तो चलिए मैं आपको एक ऐसा ही किस्सा सुनाता हूं,

 "आपको इन्वेस्टर वारेन बुफेट के नाम से भलीभांति परिचित होंगे उन्हें इन्वेस्टमेंट का ऐसा पागलपन हुआ था कि जब वे अपनी पत्नी के साथ हनीमून पर गए थे तो वहां भी वे अपनी कंपनी के इन्वेस्टमेंट रिलेटेड डाक्यूमेंट्स लेकर पहुंच गए थे ऐसा ही हम लोगों के अंदर भी होना चाहिए तो जब एक बार उनकी पत्नी बीमार हो गई थी तो उन्होंने वारेन बुफेट से एक किचन में से बाबू लाने के लिए कहा जिससे कि वह उसमें गर्म पानी करके पी सके वारेन काफी देर तक किचन में बाउल ढूंढते रहे लेकिन उन्हें बाउल नहीं मिला और लास्ट में वह खींझ कर  बहुत परेशान हो गए तब उन्हें वहीं पर एक बाउल रखा मिला जिसमें छेद था और वह वही बाउल लेकर अपनी वाइफ के पास पहुंच गए और काफी लोगों को तो यह लग सकता है कि यह लापरवाही का नतीजा है लेकिन नहीं वास्तव में यह जीनियस लोगों की पहचान होती है क्योंकि उस समय भी उनके दिमाग में इन्वेस्टमेंट रिलेटेड बातें चल रही थी।"

3. दूसरे सक्सेसफुल लोगों की किताबें पढ़ने का शौक जीनियस लोगों को किताबें पढ़ना बहुत पसंद होता है आप सब इस बात से भलीभांति परिचित होंगे कि किताब हमारी सच्ची साथी होती हैं और किताबों से ही हमें असल ज्ञान की प्राप्ति होती है अगर किसी इंसान को किताबें पढ़ने का एक बार शौक आ जाता है तो वह ना चाह कर भी इससे पीछा नहीं छोड़ सकता है और हर कोई चाहता है कि उसे किताबें पढ़ने का पागलपन हो क्योंकि यह किताबें ही होती हैं जो आपको ऊंचाई तक पहुंचाती हैं तो आज के जमाने में हम लोग एलोन मस्क वारेन बफेट शशि थरुर जैसे लोगों की बायोग्राफी पढ़ते हैं लेकिन जब उन लोगों से पूछा गया कि क्या उन लोगों ने भी कुछ ऐसा ही किया था तो उन्होंने साफ साफ बोला हां मैं भी अपने समय में उस समय के महान लोगों की बायोग्राफी पड़ता था और वैसे नोबेल और बुक्स पढ़ने का उन्हें बहुत मजा आता था और जिससे उन्हें बहुत कुछ सीखने को मिलता था और उनकी इस सब कुछ सफलता में एक बहुत बड़ा हिस्सा उन्हीं लोगों का है जिनका अनुसरण करते थे और जिनकी बायोग्राफी पढ़ते थे आप लोग शशि थरूर चाहे तो भली-भांति परिचित होंगे जब उनसे पूछा गया है कि उन्हें किताबें पढ़ना कितना अच्छा लगता है या फिर क्या उन्हें किताबें पढ़ना अच्छा लगता है तो

 "उन्होंने कहा था कि मैंने एक बार डिसाइड किया था मैं 365 दिन में 365 किताबें पढ़ लूंगा अब आप खुद ही समझ सकते हैं कि यह कितना अजीबोगरीब चैलेंज है और उन्होंने आगे भी कहा उन्होंने इस बात को भलीभांति पूरा भी किया था"

 तो है ना यह आश्चर्य की बात तो फिर किस देर किस बात की है शुरू हो जाइए और आप लोग भी किताबें पढ़ना शुरू कर दीजिए लेकिन हां अच्छी किताबें पढ़िए और सफल होना शुरू हो जाइए और कमेंट सेक्शन में जरूर बताइए क्या आप को पहले से किताबें पढ़ने का शौक है और अगर नहीं है तो इस आदत को जल्द से जल्द अपना लीजिए।

4.जीनियस लोग ऐसी चीजों को देख सकते हैं जो सामान्य लोग नहीं देख सकते हां सही सुना आपने दिनेश लोग ऐसी चीजों को देख सकते हैं जो सामान्य लोग कभी नहीं देख सकते हैं ऐसा जीनियस लोग भविष्य देख सकते हैं हां बिल्कुल जीनस लोग देख सकते हैं यह जादू नहीं है यह दिमाग की सोच है क्योंकि जीनियस पीपल का  दिमाग सामान्य लोगों से ज्यादा विकसित होता है क्योंकि बे उससे ज्यादा काम लेते हैं आपने देखा होगा ज्यादातर सामान्य लोग अपनी पूरी जिंदगी किसी एक काम में ही निकाल देते हैं ज्यादातर लोगों का यही टाइम टेबल होता है सुबह बच्चोंोंों को स्कूल छोड़ना फिर 9:00 से 5:00 की जॉब करना फिर शाम को घर पर आकर टीवी देखना घर पर बीवी से लड़ाई करना फिर सो जाना और अगले दिन यह सब कुछ दोबारा करना लेकिन genius लोगों का टाइम टेबल से कुछ अलग होता है बे वह काम करते हैं उन्हें जिसे करने में मजा आता है और वे जिसे सबसे ज्यादा पसंद करते हैं जिसकी वजह से उन्हें स्ट्रेस नहीं होता है .

"अमेजॉन के मालिक जैफ बेजॉस ने जब अमेजॉन को अच्छी तरह से विकसित कर लिया था और यह अमेजॉन बहुत ज्यादा पैसा कमाने लगे थे और वह अच्छे खासे अमीर हो गए थे तो उन्होंने फिर ध्यान दिया कि वे अपने बच्चों और अपनी बीवी के साथ टाइम नहीं स्पेंड कर पा रहे हैं और बहुत ज्यादा समय उनका अमेजॉन के ऑफिस में ही गुजरता है जिसकी वजह से उन्होंने अपना काम थोड़ा कम किया और अपना बचा हुआ बाकी का समय अपने बच्चों के साथ पिकनिक पर और अपनी बीवी के साथ घूमने फिरने के लिए निकाला और उनके साथ खाना खाने में भी टाइम देने लगे"

 क्योंकि उनका मानना था एक छोटी सी जिंदगी है उसमें अगर हम वो काम नहीं करेंगे जो हमें खुशी देता है तो फिर जिंदगी जीने का फायदा ही क्या तू भी अपनी जिंदगी को भरपूर रूप से जीते हैं यही जीनियस लोगों की पहचान होती है वह अपनी जिंदगी दुखी रहकर नहीं जीते हैं।

 5.thinking about mortality and adjust the goals यह जीनियस लोगों की एक खास पहचान होती है जो लोग जीनियस होते हैं वे जानते हैं यानी उन्हें पता होता है कि उनकी लाइफ में लिमिटेड है और भी उसी बेस पर निर्णय को बदलते हैं .

उदाहरण के लिए "अमेजॉन कंपनी के फाउंडर जेफ बेजोस ने जब अमेजॉन कंपनी की शुरुआत की थी तो उस समय भी एक इन्वेस्टमेंट कंपनी में जॉब करते थे और वे यह डिसाइड नहीं कर पा रहे थे कि वे यह जॉब छोड़े या ना छोड़े क्योंकि वे अपना भविष्य देख पाने में सक्षम नहीं थे लेकिन तब उन्होंने कुछ इस तरह सोचा उन्होंने सोचा कि जब वे 80 साल की उम्र में जॉब से रिटायर होंगे तब वे यह सोचकर ज्यादा खुश होंगे कि उन्होंने अच्छा किया की उस समय जॉब न छोड़ी या फिर उन्हें इस बात का ज्यादा दुख होगा कि अगर उस समय उन्होंने जॉब छोड़ दी होती तो आज कुछ और होते मतलब वे अपने मन का कुछ कर सकते थे कुछ देर बाद उन्होंने यह निष्कर्ष निकाला कि उन्हें इस बात का ज्यादा दुख होगा कि उन्होंने जॉब नहीं छोड़ी भी शायद कुछ और हो सकते थे और फिर उन्होंने अमेजॉन कंपनी की नींव रख दी और आज भी दुनिया के अमीर लोगों में से एक माने जाते हैं "

तो हमें इसी तरह से अपनी जिंदगी में निर्णय लेने चाहिए।

6.तेजी से चीजों का अनुसरण करना सामान्य आम आदमी की पहचान होती है कि वह सलाह देने में बहुत आगे होता है उसके पास बहुत सारे प्लांस होते हैं और वह एक सलाह मांगने पर आपको 10 सलाह देगा और सलाह कि लोगों के पास कमी नहीं होती है आपके से कोई सलाह मांगे तो आप उसे 10 चला दे सकते हैं मेरे पास से 50 सलाह हैं लेकिन सबसे बड़ी कठिनाई तब आती है जब उनका अनुसरण करना होता है यही अमीर लोगों की पहचान होती है कि वह सलाह देने की बजाय उसे एग्जीक्यूट करना ज्यादा सही समझते हैं और जिसकी वजह से वह सफल होते हैं क्योंकि हम सभी यह बात अच्छी तरह जानते हैं कि घर बैठे बैठे कुछ नहीं हो सकता है हमें सबसे पहले कोई भी काम की शुरुआत करने के लिए पहला कदम उठाना होगा जैफ बेजॉस कहते हैं  

"हमें सबसे ज्यादा टेंशन उस टाइम ही होती है जब हम उस काम को नहीं करते हैं हम जो काम कर सकते थे मतलब आप समझ गए होंगे यह चीज आप अपनी जिंदगी से भी रिलेट कर सकते हैं कई बार हम हालत की वजह से ऐसे बहुत से काम नहीं कर सकते हैं जो हम कर सकते थे"

 समय निकलने के बाद जो हमें याद आता है तो फिर हमें उस चीज का बहुत ज्यादा टेंशन होती है जैसे कि अगर हमें स्कूल में होमवर्क दिया जाता है और हम अपना होमवर्क कंप्लीट नहीं करते हैं धीरे-धीरे होमवर्क बढ़ता रहता है और फिर हमारी टेंशन भी बढ़ती रहती है।

7. don't say yes if you want to say no जीनियस लोग ना बोलना जानते हैं जीनियस इंसान है वाली बात जानता है कि उसकी जिंदगी लिमिटेड है कुछ समय बाद उसे मर जाना है और वह जो भी चाहे अपनी जिंदगी में प्राप्त कर सकता है लेकिन विवो यह भी बात भी अच्छी तरह जानता है कि वह सब कुछ तो नहीं पा सकता है इसीलिए वह सबसे पहले उन चीजों को डिसाइड करता है जिन्हें उसे अपनी जिंदगी में आना है और फिर वह उसके लिए अपनी पूरी जिंदगी लगा देता है और उसके लिए कुछ भी दांव पर लगा सकता है उदाहरण के लिए जैसे कि अगर आप आईएएस बनना चाहते हो तो उसके लिए आपको पढ़ाई करनी होगी और अगर आपका दोस्त है आपसे कहता है कि चलो मूवी देखने चलते हैं तो आपको कहना होगा नहीं मुझे पढ़ाई करनी है तो आपको यह चेक करना होगा कि आप यस मैम है मतलब आपको हर चीज के लिए हां हां कहते रहते हैं या फिर आप एक अच्छी तरह से ऑर्गेनाइज जीनियस इंसान है जो चीजों को सोच समझकर निर्णय लेता है और जिसकी जिंदगी में लक्ष्य बहुत अच्छी तरह से निर्धारित है।

 धन्यवाद अगर आपको यह पोस्ट अच्छी लगी हो तो कृपया कमेंट करके बताएं और आप यह भी जरूर बताएं कि इनमें से कौन सी आदत आपके अंदर है और कितनी आदतें आपके अंदर नहीं हैं

No comments:

Powered by Blogger.