कुछ अच्छी आदतें।



आदतें ही होती है जो व्यक्ति के प्रगति का या दुर्गति का रास्ता बताती हैं हर कोई चाहता है कि उसके अंदर अच्छी आदतें हो क्योंकि अगर आप एक सफल व्यक्ति बनना चाहते हैं तो आपके अंदर कुछ अच्छी आदतों का होना बहुत ही जरूरी होता है मनुष्य का स्वभाव कुछ ऐसा होता है कि उसकी हर समय कोई ना कोई नई आदत बनती रहती है और पुरानी आदत छुट्टी रहती है उसकी बहुत सी अच्छी आदतें समय-समय पर पड़ती रहती हैं और बहुत सी गंदी आदतें भी समय-समय पर पड़ती और छूटती रहती हैं ।

लेकिन कुछ ऐसी आदतें होती है जो आपको अलग से अपने स्वभाव में शामिल करनी होती हैं और जो व्यक्ति जितनी ज्यादा ऐसी आदतों को अपने स्वभाव में शामिल कर लेता है वह व्यक्ति ही सफल व्यक्ति बन जाता है वह सफलता की उतनी ही अधिक सीढ़ियां चढ़ता है तो आज की पोस्ट में मैं आपको कुछ ऐसी अच्छी आदतों के बारे में बताऊंगा जिनको आपको जरूर अपनाना चाहिए तो चलिए शुरू करते हैं ।

  1. धार्मिक होना आपको एक धार्मिक व्यक्ति होना चाहिए क्योंकि सदाचारी और नैतिकता की पहली निशानी होती है धार्मिक होना,कोई फर्क नहीं पड़ता है कि आपकी उम्र 20 साल है या आपकी उम्र 60 साल है हर उम्र के व्यक्ति को धार्मिक होना चाहिए कुछ लोगों का मानना है कि धर्म कर्म जैसी चीजों पर बुढ़ापे में समय देंगे ।नहीं ऐसा बिल्कुल नहीं है आपके सफल होने में धार्मिकता का बहुत योगदान होता है धार्मिक व्यक्ति का मन एकाग्र रहता है।
  2.  हर परिस्थिति में सामान्य रहने की कला यह एक विशेष कला होती है जो हर व्यक्ति को अपने अंदर विकसित करनी चाहिए इसका मतलब होता है कि आपको किसी भी समय कैसी भी समस्या आने पर विचलित नहीं होना चाहिए क्योंकि सुख और दुख तो धूप और छांव की तरह है यह हमारे जीवन में आते ही रहते हैं और बुद्धिमान व्यक्ति वही होता है जो सुख और दुख में सदैव एक जैसा रहता है सामान्य व्यक्ति दुख आने पर विचलित हो जाते हैं और सुख आने पर आनंद विभोर हो जाते हैं एक गंभीर व्यक्ति सुख और दुख दोनों ही अवस्थाओं में सामान्य रहता है उसके लिए सुख या दुख कोई ज्यादा मायने नहीं रखता क्योंकि वह जानता है यह दोनों चीजें ही कुछ समय के लिए हैं ।
  3. दूसरे को समझना या खुद को समझना अगर आप खुद को समझते हैं तो जायज सी बात है आप दूसरों को भी समझेगे ,कमजोर व्यक्ति की यही निशानी होती है कि वह अपनी बात को मनवाने के लिए चिल्लाता है क्योंकि उसे लगता है लोग उस पर दबाव बना रहे हैं और वह चिल्ला कर ही अपने आप को शक्तिशाली दिखाने की कोशिश करता है इसकी वजाय हमे हमेंशा दूसरे व्यक्ति की बात भी सुनना चाहिए और उसके नजरिए से समझने की कोशिश करनी चाहिए यह आपको कमजोर नहीं बल्कि बुद्धिमान होने की निशानी है।
  4. किताबों को पढ़ने की आदत यह आपके अंदर जरूर होनी चाहिए आप जितने भी महान आदमियों को देख लीजिए वह सब लोग किताबों से होकर जरूर गुजरे हैं क्योंकि जब तक आप किताबों को पढ़ते हैं आप सोचते रहते हैं ,और जब तक आप सीखते रहते हैं तब तक आप जीतते रहते हैं और जैसे ही सीखना बंद होता है वैसे ही जीतना बंद होता है और किताबें पढ़ने से आपका मानसिक विकास भी अन्य लोगों की अपेक्षा बहुत तेजी से होता है और आपके ज्ञान में भी बहुत तेजी से वृद्धि होती है।
  5.  बात कहने का सही तरीकाआपके अंदर सही समय पर सही बात को बोलने की कला भी होनी चाहिए आपको पता होना चाहिए कि कौन से समय पर कौन सी बात बोलनी है और किस समय पर चुप रहना है आपकी अंदर यह कला आने के लिए आपको बहुत अभ्यास करना होगा इसकी शुरुआत आपको चुप रहकर करनी होगी शुरुआत में आपको अपने ऊपर कंट्रोल रखना आना चाहिए तभी आपका दिमाग काम करेगा क्योंकि अगर आप अपने मुंह से ही काम कराते रहेंगे तो आप कुछ भी बोलेंगे और आपका दिमाग काम नहीं करेगा इसीलिए दिमाग को चालू कराने का सबसे अच्छा तरीका है कि मुंह को बंद करो।
  6.  साहसी होने की आपके अंदर यह आदत भी होनी चाहिए आपको साहसी हो और निर्भय होना चाहिए ज्यादातर व्यक्तियों की है आदत होती है कि वह दूसरों लोगों के अत्याचार और अन्याय अपने साथ रहते रहते हैं और लोगों को कभी कभी ना नहीं बोल पाते हैं और लोग उनका ऐसे ही फायदा उठाते रहते हैं अंदर ही अंदर उन्हें किसी बात का डर रहता है या फिर किसी दूसरे व्यक्ति से स्वार्थ रहता है तू आपको साहसी होना चाहिए गलत को गलत कहने की हिम्मत आप में होनी चाहिए फिर चाहे सामने कोई भी हो अगर एक बार यह आदत आप अपने अंदर विकसित कर लेते हैं तो फिर आप उन्नति के शिखर पर बहुत तेजी से चलने लगते हैं ।
  7. सच बोलने की आदत आपको सच बोलने की आदत भी होनी चाहिए क्योंकि मनुष्य के यह स्वभाव में होता है कि वह अपनी तुरंत की समस्याओं से बचने के लिए जरा जरा सी बात पर झूठ बोल देता है लेकिन वह भविष्य की नहीं सोचता है अगर आप सच नहीं बोलेंगे तो वह भविष्य में जाकर कहीं ना कहीं झूठ आपको बड़ी परेशानी में लाकर खड़ा कर देगा इसीलिए आपको हर बात सच बोलनी  चाहिए जिससे कि आपको उस समय तो शायद थोड़ा कष्ट हो सकता है लेकिन आप अपने भविष्य की आने वाली बहुत ही बड़ी सी समस्या से बच जाएंगे और इस तरह आप लगातार उन्नति के शिखर पर चढ़ते जाएंगे।
  8.  व्यायाम करने की आदत आपके अंदर आधा घंटा से एक घंटा शारीरिक स्वास्थ्य के लिए व्यायाम करने की आदत भी होनी चाहिए आप इस के बदौलत अपना शरीर भी स्वस्थ रख सकते हैं जिससे कि आपका सारे कामों में मन लगेगा और आप किसी भी लक्ष्य को आसानी से प्राप्त कर लेंगे क्योंकि इससे शरीर में ही स्वस्थ मस्तिष्क का निवास होता है और इस तरह से आप अपने ज्यादा लंबी उम्र तक जीवित रह पाएंगे और अपनी जिंदगी का ज्यादा आनंद उठा पाएंगे क्योंकि आपके पास कितना भी पैसा हो अगर आपका शरीर आपका साथ नहीं दे रहा है तो आप अपनी जिंदगी का आनंद नहीं उठा सकते हैं और आपका दवा में भी काफी पैसा खर्च हो सकता है इसलिए इन सब से केवल एक काम करके बचा सकता सकता है कि आप रोजाना थोड़ा सा व्यायाम करें ।
  9. अपना लक्ष्य खोजने की प्रवृत्ति अगर आपको अपना लक्ष्य मिल गया है तो बहुत अच्छी बात है लेकिन अगर आप एक युवा व्यक्ति हैं और आपने अभी तक अपना लक्ष्य नहीं खोज पाया है तू आपको निरंतर इसी प्रयास में लगे रहना चाहिए कि आपकी जिंदगी का लक्ष्य क्या है आप किस चीज में महारत हासिल किए हुए हैं आपका पैशन क्या है आपको क्या काम करने में मजा आता है और विश्वास मानिए आप जिस दिन अपना लक्ष्य खोज लेंगे आपको उस दिन सफल होने से कोई नहीं रोक सकता इसलिए आपको अपने दिन का थोड़ा सा समय अपना लक्ष्य खोजने में अवश्य देना चाहिए और अपने अंदर झांक कर देखना चाहिए कि आप में क्या चल रहा है।

No comments:

Powered by Blogger.