5 मिनट में दिमाग को शांत करने के कुछ तरीके।

 



ज्यादातर लोगों की जिंदगी भागदौड़ की और थकान से भरी हुई होती है उन्हें  दिन में आराम करने का समय नहीं मिलता है जिस वजह से उन्हें तमाम तरह की बीमारियां हो जाती हैं साथ ही साथ में अपने काम पर अच्छी तरह से फोकस नहीं कर पाते हैं,

  ऐसे लोगों को धीरे धीरे दिमाग शांत ना रहने की वजह से तनाव भी होता रहता है और उन्हें अंदर ही अंदर बहुत सारी बीमारियां घेर लेती हैं उन्हें पता नहीं चलता है कि वह कब किसी बड़ी बीमारी की चपेट में आ गए हैं इस सबसे बचने के लिए बहुत जरूरी है कि आप अपने दिमाग को प्रॉपर आराम दें क्योंकि वही पूरे शरीर का नियंत्रक होता है और अगर आप उसे ही आराम नहीं देंगे तो सीधी सी बात है वह आपके पूरे शरीर को ना चाहते हुए भी दिक्कत देगा लेकिन हम कर भी क्या सकते हैं अगर हम अपने शरीर को आराम देंगे तो हम इस दौड़ धूप भरी जिंदगी में काफी पीछे छूट जाएंगे।

 तो आज की पोस्ट में मैं आपको कुछ ऐसे टिप्स ही लेकर आया हूं जिनसे आप 5 मिनट में अपने दिमाग को फ्रेश कर सकते हैं और अपनी बॉडी को रिलैक्स कर सकते हैं तो देर किस बात की है चलिए मैं आपको उन टिप्स के बारे में बताता हूं और अगर आपको पोस्ट अच्छी लगती है तो आप कृपया शेयर करें और कमेंट करके बताएं तो चलिए शुरू करते हैं ,

1.गाना सुनकर या गाकर यह अपने दिमाग को फ्रेश करने के पुराने तरीकों में आता है पुराने जमाने में राजा महाराजा भी या पुराने लोग भी जब उनको बहुत ही ज्यादा मानसिक तनाव या ऐसी कोई समस्या होने लगती थी तो वे लोग मिलकर गाना गाते थे तो आपको भी कुछ ऐसा ही करना है आप अपना मन पसंदीदा कोई गाना गुनगुना सकते हैं काम करने के दौरान या फिर आप अपना कोई मन का गाना सुन भी सकते हैं जैसे आपके स्ट्रेस काफी कम हो जाएगा और आपका दिमाग काफी रिफ्रेश हो जाएगा लेकिन आपको इस बात का ध्यान रखना है कि आपको लास्ट सॉन्ग सुने धूम-धड़ाके वाले गाने सुनने से दिमाग को रिलैक्स मिलने की जगह दिमाग में स्ट्रेस और ज्यादा ही बढ़ जाएगा।

 2.चॉकलेट चॉकलेट हमारे मेंटली हेल्थ के लिए बहुत ज्यादा फायदेमंद होती है हमें चॉकलेट टेली खानी चाहिए और अपने जेब में एक चॉकलेट का पाउच भी रखना चाहिए यह दिमागी स्ट्रेस को कम करने के लिए बहुत फायदेमंद होती है क्योंकि इसमें कैफीन होती है और साथ ही साथ ही जय एक्सरसाइज करने के दौरान भी आप यूज कर सकते हैं आपने देखा होगा जितने भी एथलीट होते हैं या फिर बॉडीबिल्डर होते हैं भी चॉकलेट बहुत ज्यादा खाते हैं क्योंकि उनको मानसिक तनाव काफी ज्यादा झेलना पड़ता है साथ ही साथ उन्हें अपनी परफॉर्मेंस भी अच्छी करनी होती है इसलिए चॉकलेट भी आपके लिए बहुत अच्छा उपाय साबित हो सकती है।

3.चाय पीनी से वैसे तो चाय पीने के बहुत नुकसान होते हैं और और मैं आपको यही सलाह दूंगा कि आप चाय बहुत कम पिये लेकिन जब मानसिक तनाव की समस्या होती है तो चाय से बढ़िया उपाय शायद ही कोई होगा आपको 5 मिनट में चाय तैयार करके पी सकते हैं जिससे आपको मानसिक तनाव में बहुत ज्यादा फायदा मिलेगा आप अपने आप को रिफ्रेश करेंगे क्योंकि इसमें कैफ़ीन होता है जिसकी वजह से ही है आपकी तंत्रिका सक्रिय हो जाती हैं और आपका आलस तनाव चिंता जैसी समस्याएं एकदम दूर हो जाती हैं और आपको काफी आराम मिलता है लेकिन आपको चाय का सेवन दिन में एक से दो बार ही करना चाहिए और सुबह उठते वक्त चाय का सेवन बिल्कुल नहीं करना चाहिए ना ही रात को सोने से पहले इससे आपको कब्ज और अनिद्रा जैसी काफी समस्याएं भी हो सकती हैं।

 4. स्ट्रेचिंग स्ट्रैचिंग करके आप अपने दिमाग को डायवर्ट कर सकते हैं और आप रिलैक्स कर सकते हैं आप जहां भी अपने ऑफिस में हैं या फिर घर पर हैं आप जिस चेयर पर बैठे हैं आप वहां पर बैठे-बैठे भी कर रखते हैं आपको इसमें करना कुछ नहीं होता है आपको बस अपने हाथों और पैरों को ऑपोजिट डायरेक्शन में खींचना होता है और पूरे शरीर को एकदम टाइट करके रिलैक्स छोड़ देना होता है अब इसके पीछे साइंटिफिक कारण यह है कि जब आप अपने शरीर को एकदम से टाइट करते हैं तो आपका ब्लड प्रेशर एकदम से कम हो जाता है और सारी नसें उसी जगह जाम हो जाती हैं और जैसे ही आप अपने शरीर को एकदम रिलैक्स फ्री छोड़ देते हैं तो शरीर खून एकदम से दोबारा गति में आ जाता है यह बिल्कुल उसी तरह होता है जैसे आप कहीं बहते हुए पानी को कुछ समय के लिए रुक दें और फिर अचानक से छोड़ने तो उसमें होता क्या है कि उसका कचरा आराम से बहकर निकल जाता है सेम ऐसा ही हमारे शरीर के साथ होता है और जब हमारा ब्लड की स्पीड थोड़ी तेज होती है तो हमारे काम करने के क्षमता में भी तेजी आ जाती है जिसे हमें रिलैक्स फील होता है और एनर्जी फील होती है।

 5.नींद लेना अब मैं तो नहीं कहूंगा लेकिन आप इसे 5 मिनट की झपकी लेना भी समझ सकते हैं जब हम कोई काम करते हैं और वह काम काफी समय से कर रहे होते हैं तो हमको आलस आने लगता है और हमें लगता है कि यह नींद हमारी उस काम में रुकावट डाल रही है और हम न चाहते हुए भी उसे या तो उस नींद के आगोश में खो जाते हैं और आराम से सो जाते हैं और या फिर इसके अलावा उस नींद से लड़ते रहते हैं और बेमन से अपने काम में लगे रहते हैं लेकिन आप इन दोनों में से कोई भी उपाय नहीं करना है जब आपको नींद आती है तो आप उसको उस नींद से लड़ना नहीं है बल्कि उस नींद को एक माइंड प्रेशर की तरह यूज करना है और आपको 5 मिनट या 10 मिनट की झपकी ले लेनी है जिससे आप उठने के बाद अपने आपको बहुत ज्यादा रिलैक्स फील करेंगे और एकदम ताजगी से भरा हुआ अपील करेंगे और अगर आप नहीं मानते हैं तो आप इसको एक बार ट्राई करके जरूर देखें 

6.मेडिटेशन जब आपको बहुत ज्यादा स्ट्रेस हो या आपको बहुत ज्यादा तनाव जैसी समस्याएं हो या आपको बहुत थकान हो रही हो तो आपको एकांत में चले जाना चाहिए और 5 मिनट प्रकृति के साथ बिताना चाहिए और मेडिटेशन करना चाहिए तो आप अपने आपको बहुत ज्यादा प्रेसफील्ड करेंगे था बहुत ज्यादा तो नहीं लेकिन आपकी एनर्जी लेवल में काफी अंतर आएगा जो आपको साफ-साफ महसूस होगा।

7.जूस पीने से हमको मानसिक समस्याएं या फिर शारीरिक थकान तब अनुभव होती है जब वह हमारे शरीर में एनर्जी की कमी हो जाती है या फिर ग्लूकोज की कमी हो जाती है और अगर हम कुछ खा ले या पी ले तो हम को दोबारा ताजगी महसूस होने लगती है और हमारा दिमाग दोबारा अच्छी तरह से सक्रिय रूप से काम करने लगता है और हम दिमाग जी कसरत करने के लिए बिल्कुल तैयार होते हैं लेकिन अगर हम कुछ खाते हैं तो उसको डाइजेस्ट होने में थोड़ा टाइम लग सकता है और उससे ग्लूकोज निकलने में तो और भी ज्यादा टाइम लग सकता है इसलिए हम सॉलिड की जगह लिक्विड इन टेक करके काफी जल्दी अपनी परफॉर्मेंस बैटर कर सकते हैं इसलिए हमें जूस पीना चाहिए यह जूस हमें किसी खट्टे फल जैसे नींबू मुसम्मी आदि का होना चाहिए।

8.च्युइंगम चबाने से च्युइंगम चबाना भी आपके लिए एक काफी फायदेमंद उपाय साबित हो सकता है क्योंकि जब आप च्युइंग गम चबाते हैं तो आपका दिमाग डायवर्ट हो जाता है और आपको उस दौरान अपने दिमाग को रिलैक्स करने का समय मिल जाता है और यह एक साइंटिफिक रिसर्च भी है या फिर एक फैक्ट है कि आप अगर सेम फ्लेवर की चिंगम दुबारा चबाते हैं तो आप की पुरानी यादें फिर से ताजा हो जाएंगी जो आपके उस चिंगम को पहली बार जब आते वक्त साथ में थी कहने का मतलब यह है कि आपको जब आप बहुत खुश हो तो चिंगम चवानी चाहिए और उसी फ्लेवर की च्युइंगम आपको तब चबानी चाहिए जब आप बहुत दुखी हो तो आपको उस दुख के दौरान   थोड़ी खुशी मिल सकती है और क्योंकि एक फैक्ट यह भी है कि चिंगम चबाने से कार्टीसोल नाम का स्ट्रेस का लेबिल कम होता है जिससे हमें रिलेक्स मिलता है।

 9.मसाज करने से अगर आपको काफी ज्यादा तनाव है या फिर आपने कोई बहुत ज्यादा भारी भरकम काम किया है या फिर कोई मेहनत का काम किया है चाहे वह दिमागी रूप से मेहनत हो या शारीरिक रूप से मेहनत तो तू मसाज दोनों में आपके लिए फायदेमंद साबित हो सकती है आपको अपनी गर्दन सिर पीट बाहों की मसाज अच्छी तरह से करानी है जिससे आपको काफी ज्यादा आराम मिलेगा और आप अपने आप को एनर्जी से भरा हुआ पाएंगे।

No comments:

Powered by Blogger.