किसी भी इंसान को सिर्फ 2 मिनट में इंप्रेस करें


 कुछ भी कहो लेकिन हर इंसान चाहता है कि उसे हर कोई पसंद करें और वह अपने आसपास रहने वाले सारे लोगों को आसानी से इंप्रेस कर सके ऐसा करने में कोई बुराई भी नहीं है यह तो एक अच्छी बात है कि आप चाहते हैं कि लोग आपसे खुश रहें और आपको पसंद करें ।

अगर कोई लड़की है तो वह अपने फ्रेंड्स को या फिर लड़के को इंप्रेस करना चाहती होगी और बिल्कुल ऐसा ही लड़कों के साथ भी होता है बे भी चाहते हैं कि सारी लड़कियां उनसे इंप्रेस रहें जो लोग नौकरी करते हैं वे अपने बॉस को इंप्रेस करना चाहते हैं" और कहीं ना कहीं हर किसी के जीवन में यह समस्या होती है कि वह सामने वाले को इंप्रेस कैसे करें,

     तो परेशान होने की बिल्कुल जरूरत नहीं है क्योंकि आज की पोस्ट में मैं आपको कुछ ऐसे तरीके बताऊंगा जिनकी मदद से आप किसी भी व्यक्ति को कुछ ही समय में आसानी से इंप्रेस कर सकते हैं तो चलिए शुरू करते हैं 

1.मुस्कुराहट- भगवान ने इंसान को एक ऐसी चीज दी है जो बहुत ही ज्यादा खूबसूरत होती है और इसकी मदद से आप किसी भी इंसान को पहली नजर में इंप्रेस कर सकते हैं वह होती है मुस्कुराहट, कोई भी इंसान हो वह मुस्कुराते हुए हमेशा अच्छा लगता है आप भले ही अपने आप को जो आईने में देखते हैं और आपको अपनी मुस्कुराहट अच्छी नहीं लगती है लेकिन ऐसा बिल्कुल नहीं होता है मुस्कुराहट हर इंसान की अच्छी होती है और देखने में बहुत सुंदर लगती है जब कोई इंसान मुस्कुराता है तो वह पहले से कई गुना ज्यादा खूबसूरत लगने लगता है और आकर्षक लगने लगता है तो आपको यह चिंता करने की बिल्कुल जरूरत नहीं है कि आप मुस्कुराते हुए कैसे लग रहे होंगे क्योंकि आप सोच रहे होंगे कि आपकी मुस्कुराहट अच्छी नहीं है लेकिन आपकी किसी फ्रेंड की या आपके किसी दोस्त की मुस्कुराहट काफी अच्छी है,

 वह भी बिल्कुल आपके बारे में ऐसा ही सोचता है क्योंकि मुस्कुराहट अपनी किसी को अच्छी नहीं लगती है जबकि है वास्तव में हर किसी की अच्छी होती है तो बिल्कुल परेशान होने की जरूरत नहीं है दिल खोलकर मुस्कुराइए यह भगवान का दिया हुआ तोहफा है तो हमें इसका फायदा उठाना चाहिए ।

2.बातचीत करना- अब सीरीज में दूसरा तरीका आता है प्रभावी ढंग से बातचीत करना आपको बातचीत करने मी सबसे ज्यादा समस्या यह आती है शायद आप लोगों के साथ भी यही होता होगा कि आप हमेशा यही सोचते होंगे कि मैं ऐसी क्या बात बोलूं कि वह पट जाए या फिर मेरे बॉस इंप्रेस हो जाएं या फिर मैं और लोगों से कैसे अलग भाषण दूं अगर इस तरह की बातें ही आपके भी दिमाग में आती हैं तो मेरे दोस्त आपको बिल्कुल चिंता करने की जरूरत नहीं है क्योंकि यह सामान है ऐसे ही बातें हर किसी इंसान के दिमाग में आती हैं तो सबसे पहले मैं आपको एक जानकारी दे दूं एक शोध के अनुसार पता चला है कि इस बात का केवल 7 परसेंट सामने वाले व्यक्ति के दिमाग पर फर्क पड़ता है कि आप क्या बोल रहे हैं और 93% इस बात का फर्क पड़ता है कि आप उस बात को किस फेस रिएक्शन के साथ बोल रहे हैं और उस बात को बोलते समय आपकी बॉडी लैंग्वेज कैसी है और आप के बात करने का तरीका कैसा है अगर आप कोई बात खुशमिजाज होकर बोल रहे हैं तो उस बात का असर दूसरा होता है और अगर आप वही बात दुखी होकर बोल रहे हैं तो उस बात का असर दूसरा होता है और जब की बात एक ही होती है तो आपको बिल्कुल भी इस बात की चिंता नहीं करनी चाहिए कि आप क्या बोल रहे हैं बस आप जो भी बोल रहे हैं उसको प्रभावी ढंग से बोलना चाहिए।

3. सामने वाले इंसान की सामान्य तारीफ करें- अब जब किसी को इंप्रेस करने की बारी आती है तो यह बात हर किसी इंसान को मालूम है कि हमें उसकी भर भर के तारीफ करनी चाहिए क्योंकि हम जिस इंसान की भी जितनी ज्यादा तारीफ करते हैं वह हम से उतना ज्यादा इंप्रेस होता है और खुश होता है लेकिन हम हमेशा इस बात को भूल जाते हैं की तारीफ करने का एक तरीका होता है अगर हम ऐसे ही किसी भी इंसान की बेमन से बहुत ज्यादा और पुराने बातों से ही तारीफ करते हैं तो वह उन बातों को कोई खास ध्यान नहीं देता है और उसका उन पर कोई असर नहीं पड़ता है जैसे कि अगर दो लड़के हैं मान लीजिए और उन में से पहला मुझसे आकर कहता है कि भैया आप बहुत अच्छी पोस्ट करते हो आप बहुत अच्छा बोलते हो और आपके ब्लॉग बहुत अच्छे आते हैं मुझे आपके ब्लॉग बहुत पसंद हैं और दूसरा बंदा बोलता है कि भैया आपने लास्ट बीक में वह जो ब्लॉग बनाया था जो सर्ट को स्टाइल करने के बारे में था और आपने उसमें जो टिप दी थी वह मेरे बहुत काम आई और जिससे मैं बहुत ज्यादा इंप्रेस हूं तो आप खुद बताइए मैं किस लड़के की बात ज्यादा ध्यान से सुन लूंगा दूसरे वाले की या पहले वाले की सीधी सी बात है कि दूसरे बाली की।

 तो बस आपको भी कुछ इस तरह से बात करनी है कि सामने वाला व्यक्ति प्रभावित हो जाए तो अब आप समझ ही गए होंगे कि मैं आपसे क्या कहना चाहता हूं।

4. sense of humour- आपका बोलने का अंदाज कैसा है यह भी एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है कि आप लोगों को प्रभावित कर पाएंगे या नहीं अगर आप बहुत तो बे मन से लोगों से बातें करते हैं और उनकी बातें बिल्कुल इंटरेस्ट नहीं लेते हैं और आप एक बहुत ही गुस्सैल टाइप किया गंभीर टाइप के इंसान हैं तो माफ कीजिएगा लेकिन आप लोगों को कभी इंप्रेस नहीं कर पाएंगे उदाहरण के लिए मान लेते हैं कि अगर आप अपनी गर्लफ्रेंड के साथ डेट पर जाते हैं और उस दिन बहुत ज्यादा गर्मी पड़ रही होती है तो आप कहते हैं कि- इस गर्मी को भी आज ही पड़ना था बहुत बड़ी गलती कर दी मैंने आज आकर।

और अगर आप इसी बात को दूसरी तरह से कहते हैं- कि पता है कि आज सूरज इतना क्यों जल रहा है क्योंकि वह देख रहा है मैं तुम्हारे साथ बैठा हूं तो आप खुद ही सोचिए कि आपकी गर्लफ्रेंड पर किस बात का ज्यादा असर पड़ेगा दूसरा बंदा है वह मौके को इंजॉय कर रहा है और पहला जबरदस्ती उसको जीने की कोशिश कर रहा है तो आपको बिल्कुल मजाकिया अंदाज में रहना है बहुत ज्यादा सीरियस होने की कोई जरूरत नहीं है और हर मौके को इंजॉय करना चाहिए चाहे वह परेशानी वाला हो या फिर खुशियों वाला आपको हर स्थिति में बिल्कुल खुश ही रहना चाहिए।

5. लोगों को सम्मान देना सीखिए- आपको यह बात तो बिल्कुल मान कर चलनी चाहिए कि अगर कोई व्यक्ति आपसे ऊपर है तो सीधी सी बात है कि उसने आपसे ज्यादा मेहनत की है और वह उसके लायक है और किसी न किसी दिन आप भी उस मुकाम पर पहुंच ही जाएंगे तो आपको उसको इज्जत देनी चाहिए क्योंकि वह उस का हकदार है और जिससे कि आपका भी अच्छा व्यवहार दिखेगा और वहीं दूसरी तरफ अगर कोई व्यक्ति आपसे नीचे है तो जरूर उसकी कोई ना कोई मजबूरी रही होगी या उसकी कोई ना कोई समस्या रही होगी जिसकी वजह से वह इतना ऊपर नहीं आ पाया है और वह एक ना एक दिन आराम से अपनी कामयाबी की सीढ़ियां चढ़ पाएगा तो इस वजह से वह भी सम्मान का हकदार है इसीलिए आपको हर व्यक्ति को सम्मान देना चाहिए और आपने यह बात बहुत बार लोगों के मुंह से सुनी होगी और यह बात पूर्णता सच भी है कि अगर आप सम्मान चाहते हैं तो आपको बदले में भर-भर कर सम्मान देना होगा क्योंकि वही चीज आपके पास घूम कर आती है जो आप देते हैं अगर आप लोगों की बेइज्जती करेंगे या फिर लोगों से सीधी तरह से बात नहीं करेंगे तो बदले में आपके साथ भी बिल्कुल वैसा ही होगा इसमें बिल्कुल भी सोचने की गुंजाइश नहीं है ।

6.अपने आप को व्यवस्थित रखें- हमें सबसे पहले अपने आप की देखभाल करनी चाहिए हमेशा साफ सुथरा और स्वच्छ रहना चाहिए इस बात से कोई फर्क नहीं पड़ता है कि आप कितने अमीर हैं या फिर आप गरीब हैं बस आपके पास जो भी है आपको उसकी कदर करनी चाहिए कि नहीं चाहिए जैसे कि ऐसा बिल्कुल जरूरी नहीं है कि अगर आप लोगों को इंप्रेस करना चाहते हैं तो आप 10000 की जींस पहने और 5000 की शर्ट पहने इसकी बिल्कुल भी जरूरत नहीं है अगर आपकी ₹800 की जींस है और ₹500 की शर्ट है तो वह भी उतना ही इंपैक्ट डालती है बशर्ते आप उसे साफ-सुथरे तरीके से पहने हो और वह बिल्कुल गंदी ना हो इसलिए आपको अपने कपड़े हमेशा धुले हुए रखनी चाहिए और जूतों का भी आपकी पर्सनालिटी पर बहुत असर पड़ता है किसी महान इंसान ने कहा है कि अगर आप किसी इंसान को देखना चाहते हैं कि वह कितना अनुशासित है तो उसके जूते देखिए कि उसने अपने जूते किस तरह से रख रखे हैं और जूते उसके साथ हैं या नहीं है क्या उसके जूते बढ़िया कंडीशन में हैं ।

7.अपनी खासियत लोगों को कैसे बताएं -अगर आपके अंदर कोई खासियत है जो कि हर किसी के अंदर कोई ना कोई होती है और बिल्कुल आपको उसका फायदा उठाना चाहिए लेकिन आपको यह तरीका आना चाहिए कि आप अपने अंदर की खासियत को लोगों के सामने कैसे रखें जिससे कि उसका लोगों पर ज्यादा अच्छा असर पड़े जैसे कि अगर मान ली जी आपके पास बहुत ज्यादा पैसा है तो बिल्कुल जरूरत नहीं है कि आप बहुत महंगी मैं अभी कपड़े पहने या महंगी घड़ी पहने और लोगों को दिखाते घूमे इससे आपका अच्छा अगर तो नहीं पड़ेगा उल्टा लोगों पर इसका दूसरा विपरीत असर पड़ेगा अगर आपके पास बहुत ज्यादा पैसा है तो आप चैरिटी कर सकते हैं और दान कर सकते हैं इसी तरह अगर आपकी बॉडी बहुत अच्छी है आपके शरीर में बहुत ज्यादा ताकत है तो आप किसी इंसान की मदद कर सकते हैं क्योंकि जो अच्छाइयां होती हैं उन्हें बाहर आने में समय तो लगता है लेकिन जब वह चीजें दूसरों को पता चलती है तो अपना बहुत गहरा प्रभाव छोड़ती हैं और वह बुराइयां होती हैं वे बहुत जल्दी बाहर आ जाती है लेकिन उनका कोई इतना ज्यादा असर नहीं होता है इसलिए हमें अपनी अच्छाइयों को हमेशा छुपा कर रखना चाहिए और धीरे से बाहर आना चाहिए अब आप समझ गए होंगे कि आपको अपनी खासियत किसी के सामने किस तरह से रखनी है।

8. केवल बोले या सुने ना बात करें -जब आप किसी इंसान से बात करते हैं तो अक्सर देखा होगा कि आप या तो हमेशा अपनी ही बात कहते रहते हैं और सामने वाले इंसान की बात बिल्कुल नहीं सुनते हैं या फिर कई केसेज में ऐसा होता है कि आप बिल्कुल भी नहीं बोलते हैं और सामने वाले इंसान को बोलने का ही मौका देते हैं मतलब कि आप उस म बिल्कुल भी इंटरेस्ट नहीं लेते हैं जो कि बिल्कुल बेकार है अगर आप बहुत ज्यादा बात करते हैं तो वह भी बिल्कुल गलत चीज है और अगर आप बिल्कुल भी बात नहीं करते हैं सामने वाले इंसान में इंटरेस्ट नहीं दिखाते हैं तो उससे पता चलता है कि आप में इगो है और सामने वाला इंसान आपकी बिल्कुल भी कदर नहीं करेगा उल्टा मैं आपसे बातचीत नहीं करना चाहेगा तो कहने का मतलब सिर्फ इतना सा है कि जब भी आप पूछ किसी इंसान से बात करें तो उसी से बात करें मतलब आपको उसी बात भी ध्यान से सुननी है और उसके अनुसार ही रिस्पांस देना है अपनी ही बात नहीं कहते रहना है या फिर केवल उसे ही नहीं बोलने देना है मतलब उसे लगना चाहिए कि आप उससे बात करने में अच्छा महसूस कर रहे हो आशा है कि आपको यह पॉइंट चित्र है समझ में आ गया होगा या पॉइंट बहुत ज्यादा इंपॉर्टेंट है।

9. इंस्पायर करो इंप्रेस नहीं- यह पॉइंट बहुत ज्यादा इंपोर्टेंट है अगर आप इस पॉइंट को फॉलो करते हो तो फिर वहां की कोई चीज करने की जरूरत रही ही नहीं जाती है मतलब आपको कुछ इस तरह से जीना है कि आप से लोग इंस्पायर हूं मतलब आप को लोगों के सामने ऐसे एग्जांपल रखने हैं जिससे कि लोग आपको देखकर इंस्पायरर हूं और आप की वैल्यू करें आपको रिस्पेक्ट दें और भी आपसे खुद ही फिर बात करना चाहेंगे तो आप वह को उनसे बात करने के लिए या फिर उन्हें खुश करने के लिए उन्हें इंप्रेस करने की जरूरत नहीं होगी बेखुद आप को इंप्रेस करना चाहेंगे क्योंकि वे सब क्वालिटी का तो आपके अंदर पहले से ही मौजूद होंगे जिसको हर इंसान चाहता है और जो किसी भी इंसान को अट्रैक्ट करने के लिए काफी होती हैं और सबसे जरूरी बात यह है कि जब आप लोगों को इंस्पायर करेंगे मतलब ऐसे एग्जांपल सेट करेंगे तो सीधी सी बात है कि आप अपने सफल होने में ज्यादा समय देंगे और जब आप एक बार सफल हो जाएंगे तो आपको लोगों के एंप्रेस करने की बिल्कुल भी जरूरत नहीं होगी लोग खुद ब खुद आपके पास आएंगे तू हमें लोगों को इंप्रेस करने के लिए नहीं बल्कि अपने लक्ष्य को पाने के लिए हमेशा जीना चाहिए अगर आपका लक्ष्य आपको मिल जाएगा तो सब कुछ मिल जाएगा और नहीं तो कुछ भी नहीं।

 धन्यवाद

No comments:

Powered by Blogger.