खुद को खुश रखो और मोटिवेट रखना सीखो।




जब हम कोई काम करते हैं तो हमको अच्छा लगता है और हम मोटिवेट होते हैं लेकिन कभी-कभी ऐसी स्थिति आ जाती है कि जब हमारा कहीं मन नहीं लगता है जिसकी वजह से हम निराश होने लगते हैं और हम कितनी भी कोशिश कर ले लेकिन हमारा मूड अच्छा नहीं होता है ऐसा लगता है कि हमें निराशा ने चारों तरफ से घेर लिया है और कोई चीज नहीं अच्छी लगती है ऐसा हर किसी के साथ होता है चाहे उस समय हम कुछ भी प्रयास कर ले कोई भी काम कर ले लेकिन हमको बिल्कुल भी अच्छा नहीं लगता है ऐसे दिन हर किसी की जिंदगी में आती हैं तो हमें ऐसी स्थिति में क्या करना चाहिए वही मैं आपको आज इस पोस्ट में बताऊंगा।

    आप लोगों को यह पता होना चाहिए कि छोटी छोटी चीजें ही हमारा मूड अच्छा करने के लिए काफी होती है लेकिन हम लोग करते क्या है छोटी-छोटी खुशियों को छोड़ देते हैं और बड़ी खुशी की तलाश में लगे रहते हैं जिसकी वजह से हमें निराशा और अवसाद जैसी समस्याएं होती रहती हैं तो हमें ऐसी स्थिति में केवल यही करना है कि हमें उस समय छोटी-छोटी खुशियों को इंजॉय करना है जिस दिन हमारा काम करने में मन नहीं लगता है उस दिन हमें अपने काम को बहुत छोटे-छोटे टुकड़ों में बांट देना है और यकीन मानिए अगर आप कुछ ऐसा करेंगे तो आपका मूड एकदम अच्छा हो जाएगा तो आज की पोस्ट में मैं कुछ ऐसे तरीके लेकर आया हूं जिनकी मदद से आप अपना मूड अच्छा कर सकते हैं तो चलिए शुरू करते हैं -

1.अपनी हर छोटी बड़ी खुशी को सेलिब्रेट करें वैसे तो आपको अपनी हर छोटी बड़ी खुशी को हमेशा ही सेलिब्रेट करना चाहिए अपने आप को छोटी छोटी चीजों के लिए और खुशियों के लिए इनाम देना चाहिए लेकिन जब जो ऐसा समय आता है कि आपका मूड अच्छा नहीं होता है तो उस दिन आपको मैंने जैसा बताया है अपने दिल को छोटे-छोटे गोल्स में बांट लेना है और उन गोल्फ को अचीव करने के बाद अपने आप को इनाम देना है और उन गोल को अचीव करने की खुशी को सेलिब्रेट करना है होता क्या है कि हमारा दिमाग सिगनल्स के बेस पर काम करता है जब हमारे दिमाग को सिग्नल जाएगा कि हमने कोई गोल अचीव कर लिया है तो हमारा दिमाग अपने आप ही अच्छे बेर से हमारे शरीर को भेजेगा और जिसके फल फल स्वरुप कुछ ही समय में हमारा मूड बहुत अच्छा हो जाएगा।

2.अपने वातावरण को पीसफुल बनाओ आपके खुश रहने में और मोटिवेट रहने में आपके चारों तरफ रहने वाले लोगों का बहुत बड़ा सहयोग होता है और आपके वातावरण का भी बहुत बड़ा हाथ होता है अगर आप बहुत समय से एक ही जगह पर रह रहे हैं क्योंकि यह हमारा जो इंसान का दिमाग होता है इसे लगातार परिवर्तित होना पसंद होता है अगर जिंदगी में परिवर्तन होना बंद हो जाए तो सब कुछ खत्म हो जाएगा हम लोग जिंदा लाश बन कर रह जाएंगे तू अगर आप लगातार लगातार काफी दिनों से एक ही तरह के वातावरण में रह रहे हो तो आपको उसमें कुछ ना कुछ परिवर्तन करना चाहिए या फिर आप एक ऐसी जगह पर रह रहे हो जहां पर बहुत ज्यादा शोर शराबा होता है तो आपको जल्द से जल्द उस जगह को परिवर्तित कर देना चाहिए या फिर आपको कुछ समय के लिए जब ऐसी स्थिति आती है तो दूसरी जगह पर चले जाना चाहिए और अपना दिमाग शांत करके आप अपनी जगह पर वापस आ सकते हैं या फिर आप जिस जगह पर रहते हैं उसी जगह में थोड़ा थोड़ा परिवर्तन कर सकते हैं लेकिन अगर आप शोर-शराबे वाले स्थान पर रहते हैं तो आप को बहुत बड़ा बदलाव लाना होगा आपको कोई ऐसा शांत स्थान चुनना होगा।

3. अपनी एनर्जी और time useless काम में वेस्ट मत करो हमें यह मानकर चलना चाहिए हमारे पास समय बहुत निश्चित है और हमें जिंदगी में हासिल करने के लिए बहुत कुछ है मतलब कि हमारे पास बहुत सारे काम है जो पूरे करने हैं और वास्तव में यह सच्चाई भी है लेकिन ज्यादातर लोग क्या करते हैं वे अपनी एनर्जी और अपना टाइम बेकार के कामों में लगाए रहते हैं तो आपको हमेशा सतर्क रहना होगा कि आप अपनी एनर्जी का एक परसेंट भी बेस्ट तो नहीं कर रही हैं आपको देखना होगा कि आप कैसे लोगों के बीच में बैठ रहे हैं आप की संगत कैसी है आपको अपने आप को बाउंड्रीज में बांटना होगा आपको अपने आप को समझाना होगा कि किस तरह से के लोगों के पास जाने से या साथ रहने से आपका माइंड सेट खराब होता है आपको डिमोटिवेशन होता है या फिर आप की संगति गलत होती है आपको उन लोगों से बचकर रहना होगा उन लोगों के पास जाने से अपने आप को रोकना होगा ऐसी जगह पर जाने से अपने आप को रोकना होगा आपको अपने आपको कंडीशन करना होगा हालांकि यह बहुत करीम कहां हो सकता है लेकिन यह बिल्कुल भी असंभव नहीं है जब आप ऐसा करेंगे तभी आप हमेशा खुश रह सकते हैं क्योंकि कभी-कभी ऐसा होता है कि आप चाहे कितनी भी खुश हूं लेकिन किसी पर्टिकुलर आदमी या लड़की को देखने पर आपके दिमाग की सारी खुशी एकदम से छीन जाती है और आप एकदम से निराश हो जाते हैं तो उसका केवल यही एक तरीका है कि आप उस इंसान को ना देखें हो सकता है कुछ समय बाद जब आप अपने आप को मजबूत बना लें तो आपको कोई फर्क ना पड़े लेकिन जब तक आपको फर्क पड़ता है तो तब तक आपको अपने आप को बचा कर रखना होगा।

4. दूसरों की मदद करना चाहिए हर इंसान को चाहे वह अच्छा हो या बुरा कैसा भी हो दूसरे की मदद करने के बाद जो खुशी मिलती है उसकी बराबरी नहीं की जा सकती है इस बात से बिल्कुल फर्क नहीं पड़ता है कि आप उसकी बहुत बड़ी मदद करते हैं या छोटी मदद करते हैं लेकिन जब आपका मूड खराब हो या फिर आप बहुत ज्यादा निराश अपने आपको महसूस कर रही हूं तो आपको दूसरे की मदद करनी चाहिए जब आप दूसरों को खुश करेंगे तो अल्टीमेटली आप खुद भी खुश हो जाएंगे क्योंकि प्रकृति के कुछ ऐसे नियम होते हैं जो हमेशा सच होते हैं जैसे कि आप जो भी देंगे वही आपको मिलेगा और अगर आप किसी को खुश करते हैं या फिर आप किसी की मदद करते हैं तो आपके अंदर भी एकदम से खुशी आ जाएगी और आपकी निराशा बिल्कुल खत्म हो जाएगी आप दूसरों की मदद के लिए अपने किसी दोस्त से बात कर सकते हैं जो अकेला रहता हूं या फिर आप अपने घर वालों से बात कर सकते हैं उन्हें बता सकते हैं कि उनकी आपके जीवन में क्या वैल्यू है या फिर आप किसी भिखारी को खाना खिला सकते हैं या फिर आप जानवरों को भी खाना-पीना दे सकते हैं ऐसा करने से आपके अंदर जो सकारात्मक ऊर्जा आएगी उसका जवाब नहीं है आपको बहुत जल्द अच्छा लगने लगेगा।

6. Nature को observe करो अगर आप हमेशा अपने घर में ही रहते हैं या फिर आप किसी बंद जगह पर ही रहते हैं या आप काफी समय से एक ही जगह पर रह रहे हैं तो बहुत ही सामान्य सी बात है कि आपका मन एकदम से खराब हो जाएगा या फिर आपको कुछ ही जल्द एकदम से अच्छा लगना बंद हो जाएंगी आजकल इंसान की आदत क्या है कि उसने अपने आप को बिल्कुल बंद कर लिया है चाहे वे ऑफिस हूं या फिर बड़े-बड़े मकान हूं या फिर कोई भी जगह हो उसने अपने आप को बिल्कुल अकेला कर लिया है और वह बिल्कुल प्रकृति से नाता तोड़ चुका है जिसके फलस्वरूप उसका असर उसको कभी-कभी कई चीजों में धीरे-धीरे देखने को मिलता है यही इसका एक कारण भी है कि कभी-कभी आपको निराशा जैसी समस्याएं होने लगती है तो ऐसी स्थिति में आपको प्रकृति से संपर्क स्थापित करना चाहिए इससे बढ़िया आपके लिए कोई भी साधन नहीं हो सकता है अपने आप को खुश करने के लिए जब आपको निराशा महसूस हो या फिर किसी काम में मन ना लगे तो आपको कुछ समय के लिए खुली जगह पर जाना चाहिए ज्यादा अच्छा रहेगा कि आप किसी हरे-भरे पेड़ पौधों वाली जगह पर जाएं जहां पर अच्छी हवा चल रही हो और चिड़ियों के चहचहाने की आवाज आ  रही हो।

6. अपने घर या रूम को साफ करो यह एक बहुत अच्छा तरीका है जिसको आप उस दौरान इस्तेमाल कर सकते हो जब आपका किसी काम में मन नहीं लगता है या फिर एग्जिट ई फील होती है जैसे जैसे आप अपना घर को साफ करोगे आप का मन अपने आप साफ होता चला जाएगा क्योंकि कहीं ना कहीं बाहर की चीजें आपके अंदर के मन पर भी बहुत प्रभाव डालती हैं अगर बाहर चीजें बहुत अस्त-व्यस्त होंगी तो अंदर भी बहुत कुछ हिला हुआ रहेगा और जिसके फलस्वरूप हमें निराशा और परेशानी जैसे लक्षण महसूस होंगे और जैसे-जैसे हम बाहर की चीजों को साफ और छोटा करते जाएंगे वैसे वैसे ही आपको देखेगा कि आप की अंदर की समस्याएं भी धीरे-धीरे छोटी और सिकुड़ती चली जा रही है और आपका मन एकदम से साफ हुआ जा रहा है।

7.सोशल मीडिया पर नहीं रियल लाइफ में लोगों से मिलो आज के लिए बहुत ट्रेंड चला है कि हम लोगों को जब किसी से कोई बात करनी होती है तो हम उस से सोशल मीडिया पर बात कर लेते हैं या फिर कॉल पर बात कर लेते हैं और हम सोचते हैं कि हमने तो फॉर्मेलिटी पूरी कर ले लेकिन अरे नहीं ऐसा बिल्कुल नहीं होता है ऐसा करने से हमारे रिश्ते लगातार कमजोर होते चले जाते हैं और भी बहुत सी समस्याएं होती चली जाती है इससे तो अच्छा यह रहेगा कि हम बात ही ना करें लेकिन जब भी बात करें तो आमने सामने बैठ कर पूरी तरह से संतुष्टि से बात करें जब कोई व्यक्ति हमारे सामने बैठ कर बात कर रहा होता है और हम उससे एकदम फेस टू फेस बात कर रहे होते हैं तो बहुत से मनोवैज्ञानिक तथ्य होते हैं जिनके फलस्वरूप बहुत सी समस्याएं अपने आप ही खत्म हो जाती हैं अगर आप किसी इंसान से बहुत ज्यादा गुस्सा हो और आपने उसके लिए अपने मन में बहुत सी भावनाएं पाल रखी हो तो बहुत ज्यादा इस बात की चांसेस है कि वह इंसान भी आपसे उतना ही गुस्सा होगा तो ऐसी स्थिति में करना क्या है कि अगर आप लोग एक साथ मिलकर 10 मिनट भी सामने आमने बैठ कर बात कर लेते हैं तो विश्वास मानिए आप लोगों की सारी समस्याएं एक दूसरे से खत्म होगी और आप दोनों लोग एक दूसरे से गले लगाए बिना नहीं जाएंगे जबकि सोशल मीडिया पर आने के लिए प्लेटफार्म उस पर ऐसा बिल्कुल नहीं हो पाता है उस पर बात बढ़ने की बजाय बिगड़ती और जाती है

2 comments:

Powered by Blogger.