Smart लोग क्या नहीं करते है?

 


जब आपके दिमाग में स्मार्ट शब्द आता है तो आप केवल ऐसे लोगों के बारे में सोचते हैं जिन से सभी लोग बहुत प्रभावित रहते हैं जो हमेशा खुश रहते हैं,

     .........इंटेलिजेंट होने में और समझदार होने में बहुत फर्क होता है एक समझदार इंसान इंटेलिजेंट इंसान से बहुत ज्यादा आगे होता है और वह जिंदगी के कई क्षेत्रों में बहुत ज्यादा सफल भी होता है,

....................................................................................

..................... तो स्मार्ट बनने के लिए केवल यही जरूरी नहीं है कि हम स्मार्ट लोगों के बारे में यह पता करें कि वह क्या करते हैं स्मार्ट बनने के लिए हमें यह पता होना चाहिए कि स्मार्ट लोग क्या नहीं करते हैं तो आज की पोस्ट में मैं आपको कुछ ऐसी चीजें बताऊंगा कि जो स्मार्ट लोग नहीं करते हैं आपको भी यह काम बिल्कुल नहीं करनी चाहिए तो चलिए शुरू करते हैं,

......................................................................

1. वे दूसरों पर भरोसा नहीं करते हैं आपको यह जानकर बहुत अच्छा लगता होगा कि आपके तो कई साथी हैं और आपके साथ बहुत सारे लोग हैं तो आपको कभी कोई समस्या हो ही नहीं सकती है और आप हमेशा उन लोगों पर निर्भर होते हैं लेकिन वे लोग हमेशा आपके साथ कभी नहीं रहेंगे अगर आप दूसरे लोगपर ही हमेशा निर्भर रहेंगे तो कभी ना कभी ऐसा समय जरूर आएगा जब आप बिल्कुल अकेले होंगे तो आप असफल हो जाएंगे इसीलिए समझदार लोग कभी किसी का भरोसा नहीं करते हैं वे अपने सारे काम खुद करते हैं और जो काम भी खुद नहीं कर सकते हैं उसके लिए वे केवल ईश्वर का भरोसा करते हैं और अगर कोई इंसान उनकी मदद करता भी है तो भी ईश्वर का आशीर्वाद मानकर उसका धन्यवाद करते हैं ना कि उसे अपना हक मानते हैं आप एक बहुत अच्छे इंसान बन सकते हो अगर आप अपने सारे कामों की जिम्मेदारी खुद लेते हो।

2. बे कभी past के बारे में नहीं सोचते हैं समझदार लोग समय की कीमत बहुत अच्छी तरह से जानते हैं वे कभी भी अपने गुजरे हुए समय के बारे में व्यक्त नहीं सोचते हैं वे अपना कीमती समय अपने वर्तमान को बहुत अच्छा बनाने में और अपने भविष्य के लिए पक्षी प्लानिंग करने में बिताते हैं वे जानते हैं कि पास्ट के बारे में सोचना बिल्कुल उस तरह से है कि अगर आप जब जवान हो गए हो और आप इस बारे में सोचें कि आप फिर से बच्चा बन जाएं और आप यह बात को सोचकर हमेशा परेशान होते रहे क्योंकि यह कभी हो ही नहीं सकता और यह बात आप भी अपने अंदर कहीं ना कहीं जानते हो लेकिन आप फिर भी परेशान होते रहो तो यह बिल्कुल भी ना समझी है इसीलिए यह लोग कभी भी फास्ट के बारे में सोच कर अपना समय बर्बाद नहीं करते हैं.

3. यह अनावश्यक दुश्मन नहीं बनाते है हर किसी की जिंदगी में पहले ही बहुत सी समस्याएं होती हैं सभी की जिंदगी पहले से ही अलग-अलग तरह की समस्याओं से भरी होती है ऐसे में वे लोग बहुत ही बेवकूफ होते हैं जो बिना किसी कारण के हमेशा हर किसी से लड़ाई कर लेते हैं वे जहां भी जाते हैं उनकी लड़ाई हो जाती है रोज-रोज उनकी नई लड़ाइयां तैयार होती रहती हैं इसकी वजह जो लोग स्मार्ट होते हैं बेबे बजे लड़ाई करना बिल्कुल पसंद नहीं करते हैं और बेल लड़ाई की बजाए समझदारी से बातचीत करके मसले को हल करने में ज्यादा विश्वास रखते हैं उनका मानना होता है कि आप जब तक नहीं चाहोगे तब तक आपसे कोई लड़ाई नहीं कर सकता और आप जितने कम दुश्मन बनाओगे आपके सफल होने की गति उतनी ज्यादा तेज होगी तो वह ऐसी स्थितियों में भी जहां पर लड़ाई होने की बहुत ज्यादा संभावना होती है अपनी समझदारी की वजह से बच जाते हैं फिर केवल उनके बे ही दुश्मन बचते हैं हैं जो वास्तव में उनके नहीं बल्कि अपने आपके दुश्मन होते हैं मतलब वे लोग भी उनके दुश्मन होते हैं जो किसी भी आदमी की प्रगति से जलते हैं किसी भी आदमी के सफल होने से जलते हैं।

4. अपने मुंह से अपनी तारीफ नहीं करते आज के जमाने में बहुत से लोग होते हैं जो अपने आप को दिखाने के लिए और अपने आप को साबित करने के लिए अपने मुंह से ही हमेशा अपनी तारीफ करते रहते हैं चाहे वह बिल्कुल भी वास्तव में कुछ भी ना हो लेकिन वे अपना दिखावा इतना ज्यादा बनाकर रखते हैं और वे सोचते हैं कि यह बहुत ही बढ़िया है लेकिन सफल लोग और समझदार लोग अपने मुंह से अपनी तारीफ नहीं करते हैं उनका मानना होता है कि उनके काम करने का तरीका उनकी दिनचर्या और उनकी मेहनत को उनके बारे में बोलेगी क्योंकि जब यह चीजें आपके बारे में बोलेंगे तो आपको खुद अपने बारे में बोलने की जरूरत नहीं होगी और आप चाहे अपने बारे में कितना भी बड़ा बड़ा बोलते हैं लोग कभी भी आपकी बात का विश्वास नहीं मानेंगे जब तक कि आप उनको कुछ करके नहीं दिखाते हो या फिर उनको जब तक खुद कुछ नहीं दिखता है।

 5.अपने शरीर पर ध्यान देते हैं कुछ लोगों का मानना होता है कि शरीर केवल मोह माया है हमें इस पर ज्यादा ध्यान नहीं देना चाहिए लेकिन वास्तविकता तो यह है कि शरीर हमारा ईश्वर का दिया हुआ एक उपहार है और हमारा पूरा कर्तव्य बनता है कि इसका बहुत ज्यादा ध्यान रखें और दूसरी तरफ यह बात भी उतनी ही सही है कि आपको अच्छी तरह से सफल बनाने के लिए अपने दिमाग के साथ-साथ अपने शरीर पर भी ध्यान देना चाहिए क्योंकि तभी आप अपनी जिंदगी का भरपूर आनंद उठा सकते हैं क्योंकि दिमाग से इंसान चाहे कितना भी तेज हो एक स्थिति पर आकर वह फेल हो जाता है अगर उसका शरीर उसका साथ नहीं देता है और चाहे इंसान शरीर से कितना भी ताकतवर क्यों ना हो एक स्थिति पर आकर वह भी कमजोर हो जाता है अगर वह दिमाग से काम ना  लेता हो इसीलिए दिमाग और शरीर दोनों का साथ होना बहुत जरूरी होता है.

......................................................................

धन्यवाद ♥ 

No comments:

Powered by Blogger.