Share market se Paisa Kaise kamae?



 अगर आप भी एक इन्वेस्टर हैं या फिर एक ट्रेडर हैं या बनना चाहते हैं, तो यह पोस्ट आपके लिए ही है। बहुत सारे लोगों का यह सवाल रहता है की शेयर मार्केट से पैसा कैसे कमाए? उन्होंने तो इसमें पैसा गवाया ही है, उनकी यह दलील सही भी है क्योंकि मार्केट में 100 में से 90 लोग पैसा गवाते ही हैं और यह 90 लोगों का पैसा 10 लोगों के पास जाता है अब आप लोग सोच रहे होंगे कि मैं यह क्या कह रहा हूं, हां मैं बिल्कुल सच कह रहा हूं तो इस तरह से तो आप लोगों के हारने के चांस 90 परसेंट हो गए और जीतने के केवल 10 परसेंट।हां बिल्कुल यही सच है।

लेकिन यह बात भी उतनी ही सही है कि वे 10 लोग कहीं अलग से नहीं आते हैं आप लोगों में से ही होते हैं,इसलिय निराश बिल्कुल ना हों।

 तो आज की पोस्ट में मैं आपको बताऊंगा कि वे 10 लोग ऐसा क्या करते हैं जो बाकी 90 लोग नहीं करते हैं अगर आप भी यह जानने के लिए उत्सुक हैं तो पोस्ट को आखिर तक पढ़े अगर आपको यह पोस्ट पसंद आए तो अपने दोस्तों को भी शेयर करें साथ ही यह भी बताएं कि आपको किस टॉपिक पर पोस्ट चाहिए तो चलिए शुरू करते हैं ।

इन्वेस्टर और ट्रेडर क्या होता है?

 वे लोग जो अपने पैसे को शेयर मार्केट में लंबे समय की अवधि के लिए निवेश करते हैं उन्हें इन्वेस्टर कहते हैं,

 वे लोग जो शेयर मार्केट में अपने पैसे को कुछ घंटे या फिर कुछ दिनों के लिए निवेश करते हैं और थोड़ा सा मुनाफा कमाकर बाहर निकल जाते हैं उन्हें ट्रेडर कहा जाता है अगर आप कहेंगे तो मैं इस पर भी एक पोस्ट बना दूंगा की आपको ट्रेडिंग करनी चाहिए या फिर इन्वेस्टिंग।

पोस्ट को मैं दो हिस्सों में बांट रहा हूं पहला अगर आप इन्वेस्टर हैं और दूसरा हिस्सा अगर आप ट्रेडर हैं।

 अगर आप इन्वेस्टर हैं।

  •  कंपनी की सही से जांच क्योंकि आप एक निवेशक हैं तो आप जिस कंपनी के शेयर खरीदना चाहते हैं आपको उसमें :-
  1. इस आधार पर निवेश नहीं करना है की कंपनी का शेयर तेजी से ऊपर बढ़ रहा है बल्कि आपको उस कंपनी की अच्छी तरह से एनालिसिस करनी है।आपको उस कंपनी के कम से कम पिछले 10 सालों का डाटा देखना चाहिए कि कंपनी पिछले 10 सालों से कैसा प्रदर्शन कर रही है।
  2. आपको यह भी जांच करनी चाहिए की कंपनी में प्रमोटर के पास कितने पर्सेंट हिस्सा है प्रमोटर के पास कम से कम 50 प्रजेंट हिस्सा होना चाहिए ऐसी ही कंपनी भरोसेमंद होती है,
  3.  यह देखिए कंपनी पर कितना कर्जा है और कंपनी को हर साल होने वाला फायदा अगर कंपनी के कर्जे से कम है तू ऐसी कंपनी में निवेश ना करें और अगर करें भी तो बहुत कम निवेश करें दो या तीन परसेंट।

  • भावनाओं पर काबू रखें अगर आप पूछें शेयर मार्केट में आपका सबसे बड़ा दुश्मन कौन है तो मैं यह कहने से पहले जरा भी नहीं सोचूँगा कि वह आप खुद हैं।हां आपने सही सुना शेयर मार्केट में आपका सबसे बड़ी दुश्मन आपकी भावनाएं होती हैं तो भावनाओं को काबू में रखें अगर आप अपनी भावनाओं को काबू में नहीं रख सकते हैं तो आप शेयर मार्केट से लाभ तो छोड़िए नुकसान ही उठाएंगे जो 90 लोग करते हैं भावनाओं को इस तरह से काबू में रख सकते हैं ।

  1. खुद पर भरोसा रखें अगर आपका शेयर खरीदे गए दाम से थोड़ा नीचे भी जाता है तो भी चिंता ना करें क्योंकि यही वह समय होता है जब आपको फायदा होगा क्योंकि अगर आपने सही रिसर्च की है तो कंपनी का शेयर सत प्रतिशत कुछ समय बाद ऊपर ही जाएगा तो कभी भी भावनाओं के भाव में आकर शेयर ना बेंचें।
  2. केवल ग्राफ पर ही भरोसा ना करें अगर किसी कंपनी का ग्राफ लगातार कुछ दिनों से ऊपर जा रहा है तो भावनाओं के बहाव में केवल आप उस कंपनी में इसलिए निवेश ना करें क्योंकि उसका ग्राफ ऊपर जा रहा है आप भारी नुकसान उठा सकते हैं मैंने पहले ही बताया है कंपनी में निवेश करने से पहले उसकी अच्छी तरह जांच करें। 

  • जोखिम को कम करें अगर कोई आपसे कहे की वह आपको जोखिम का प्प्रतिशत जीरो कर सकता है तो वह गलत है आपको किसी भी कंपनी में नुकसान हो सकता है हां लेकिन आप अपनी समझदारी से उस नुकसान को न्यूनतम अवश्य कर सकते हैं, तो आप ऐसा कैसे करेंगे:-

  1.  अपना सारा पैसा एक ही कंपनी में ना लगाएं आप अपने पैसे को एक ही कंपनी में लगाने की वजह कई कंपनियों में डायवर्सिफाई कर दें यह भी ध्यान रखें की सारी कंपनियां अलग-अलग सेक्टर की हूं इसे आप अपने जोखिम को काफी हद तक कम कर सकते हैं क्योंकि मान लीजिए अगर आप अपना पैसा 10 कंपनियों में लगाते है 5 साल बाद आप देखते हैं की आपकी 10 में से पांच कंपनियों का पैसा डूब गया है दो कंपनियों ने ठीक-ठाक रिटर्न दिए हैं लेकिन बाकी तीन कंपनियों ने असाधारण प्रदर्शन किया है उन्होंने मिलाकर आपके लगाए गए पैसे को 50 गुना तक कर दिया है तो भी कुल मिलाकर आप फायदे में ही रहेंगे लेकिन अगर आप अपना सारा पैसा एक ही कंपनी में लगा देते हैं और कंपनी कुछ समय बाद डूब जाती है तो आपका सारा पैसा बर्बाद हो जाएगा ।
  2. कितनी कंपनीयों में लगाएं पैसा?आपके पोर्टफोलियो में कम से कम 12 कंपनियां होनी चाहिए और अगर आप ज्यादा पैसा लगाते हैं तो आपके पोर्टफोलियो में 25 या उससे अधिक कंपनियां भी हो सकती हैं लेकिन अगर आप 50 हजार se 100000 तक के बीच में पैसा लगाते हैं तो आपके पोर्टफोलियो में 12 या 15 कंपनियां होनी चाहिए।
  3. एक कंपनी में कितना पैसा लगाएं? आपको अपनी इन्वेस्ट की जाने वाली रकम का कम से कम 4% अमाउंट किसी भी कंपनी में लगाना चाहिए और अधिक से अधिक 8 या 9 प्रतिशत अमाउंट आप किसी कंपनी में लगा सकते हैं अगर आप उस कंपनी पर ज्यादा भरोसा करते हैं या उसके फंडामेंटल्स ज्यादा एक स्ट्रांग है।लेकिन कम से कम  आपको चार या पांच परसेंट तो लगाना ही चाहिए क्योंकि अगर वह कंपनी बढ़िया प्रदर्शन करती है तो आप को अच्छा रिटर्न मिलेगा और अगर कंपनी बढ़िया प्रदर्शन नहीं करती है तो केवल आपका चार से पांच परसेंट अमाउंट ही फसेगा।
  4. मार्केट में कितना पैसा लगाएं?जिसकी आपको आगे 1 या 2 साल तक कोई जरूरत नहीं है आप उसे कम से कम 2 साल तक तो होल्ड कर ही सकते हैं अगर आप मार्केट में ऐसा पैसा लगा देते हैं जिसकी आपको अचानक महीने या 2 महीने में जरूरत पड़ने वाली है तो आप नुकसान उठा सकते हैं क्योंकि हो सकता है जिस समय आपको अपने पैसे की जरूरत हो उस समय कंपनी का लॉकिंग पीरियड चल रहा हूं और शेयर करंट प्राइस से काफी नीचे हो इस वजह से आप मार्केट में वही पैसा लगाएं जिसकी आपको अगले काफी साल तक कोई जरूरत नहीं है.।


अगर आप एक ट्रेडर हैं 

 ट्रेडर, जिनको कंपनी के फंडामेंटल से कोई मतलब नहीं होता है बे केवल उस समय तक मार्केट में रहते हैं जब तक मार्केट बढ़िया प्रदर्शन करता है और उस समय के दौरान ही पर अपना मुनाफा कमाकर मार्केट से निकल लेते हैं अगर आपको ट्रेडिंग की कोई जानकारी नहीं है तो यह आपके लिए काफी रिस्की हो सकती है।

  • तो ट्रेडिंग करने के लिए आपको सबसे पहले बहुत छोटे अमाउंट से और उसे कई भाग में बांटकर कई बार में मार्केट में लगाना चाहिए।
  •  हमेशा अपने ज्ञान को बढ़ाते रहना चाहिए।
  • हमेशा होश में रहना चाहिए।
  •  ट्रेडिंग करने के दौरान सामान्य रहना चाहिए और कभी भी मानसिक स्थिति खराब होने पर ट्रेडिंग नहीं करनी चाहिए। उदाहरण के लिए "आपको ऐसे समय पर ट्रेडिंग कभी नहीं करनी चाहिए जब आप बहुत ज्यादा उत्तेजित हो या फिर आपका किसी से लड़ाई झगड़ा हुआ हो जिस वजह से आप परेशान हों क्योंकि इसका सीधा प्रभाव आपके निवेश पर पड़ता है आपका गलत निर्णय आपको काफी नुकसान दे सकता है, इसीलिए शांत दिमाग होने पर ही ट्रेडिंग करनी चाहिए।"
  • प्रोफेशनल से ट्रेनिंग ले।
  • कई सारे कोर्स ज्वाइन करें ।
  • अगर आप ट्रेडिंग को अपना प्रोफेशन बनाना चाहते हैं तो उसके पहले आपको कई सारी किताबें पढ़नी चाहिए इससे रिलेटेड बहुत सारे कोर्सो का हिस्सा बनना चाहिए और बहुत सारे प्रोफेशनल्स के संपर्क में रहना चाहिए।

धन्यवाद

No comments:

Powered by Blogger.